Hindi Shayari, Hindi Quotes, Gulzar Shayai, Gulzar Quotes,

1.
अब न कोई शिकवा, ना गिला, ना मलाल रहा
सितम तेरे भी बेहिसाब रहे
सब्र मेरा भी कमाल रहा |
……………………………………………………………………..गुलज़ार












___________________________________________________________________________________________
2.
फिर कुछ ऐसे भी मुझे आजमाया गया
पंख कटे गए और आसमां में उड़ाया गया |
……………………………………………………………………..गुलज़ार












___________________________________________________________________________________________
3.
खो जाता हूँ अक्सर तुझे भुलाने के चक्कर में
मुसाफिर कल भी था मुसाफिर आज भी हूँ
कल अपनों की तलाश में था
आज अपनी तलाश में हूँ |
……………………………………………………………………..गुलज़ार












___________________________________________________________________________________________
4.
बहुत भीड हुआ करती थी महफ़िल में मेरी
फिर में सच बोलता गया और लोग उठते गए।
……………………………………………………………………..गुलज़ार












___________________________________________________________________________________________
5.
फर्क था हम दोनों की मोहब्बत में
मुझे उससे ही थी, उसे मुझसे भी थी।
……………………………………………………………………..गुलज़ार












___________________________________________________________________________________________
6.
इतना तो सीखा ही दिया हे तूने ए-जिंदगी
रिश्ता सभी से रखो उम्मीद किसीसे नहीं।
……………………………………………………………………..गुलज़ार












___________________________________________________________________________________________
7.
एक वक्त था जब तेरे ना होने से खालीपन का एहसास था
अब आलम यूँ हे की तेरे होने से भी कोई फर्क नहीं पड़ता।
……………………………………………………………………..गुलज़ार












___________________________________________________________________________________________
8.
यह दुनिया नहीं हे मेरे पास तो क्या
मेरा यह भ्रम था की तुम मेरे पास हो।
……………………………………………………………………..गुलज़ार












___________________________________________________________________________________________
9.
मुमकिन नहीं हे हर किसी की नजरों में बेगुनाह रहना
बस खुद से यह वादा करो की अपनी नजरों में बेदाग रहे।
……………………………………………………………………..गुलज़ार












___________________________________________________________________________________________
10.
याद रखना जब फैसला आसमान वाला करता हे
तो जमीन वालों की वकालत नहीं चलती।
……………………………………………………………………..गुलज़ार












___________________________________________________________________________________________
11.
फ़ासलों का एहसास तब हुआ
जब मैंने कहा ठीक हूँ और उसने मान लिया।
……………………………………………………………………..गुलज़ार












___________________________________________________________________________________________
12.
बहोत अंदर तक जला देती हे,
वो शिकायतें जो बया नहीं होती।
……………………………………………………………………..गुलज़ार












___________________________________________________________________________________________
13.
अब मैं जवाबों का इंतजार नहीं करता
मैंने सवालों को बहलाना सिख लिया।
……………………………………………………………………..गुलज़ार












___________________________________________________________________________________________
14.
नाराज हमेशा खुशियाँ होती हे
ग़मों के इतने नखरे नहीं होते।
……………………………………………………………………..गुलज़ार












___________________________________________________________________________________________
15.
सोचता था, दर्द की दौलत से एक में ही मालामाल हूँ
देख जो गौर से तो हर कोई रईस निकला।
……………………………………………………………………..गुलज़ार












___________________________________________________________________________________________
16.
ज़िंदगी किस्मत से चलती हे साहब,
दिमाग से चलती तो बीरबल बादशाह होता।
……………………………………………………………………..गुलज़ार












___________________________________________________________________________________________
17.
थम के रह जाती हे ज़िंदगी,
जब जमके बरसती हे पुरानी यादें।
……………………………………………………………………..गुलज़ार












___________________________________________________________________________________________
18.
जिस इंसान को हमें खोने का डर ही न था,
उस इंसान को हमारे ना होने का अफ़सोस क्या होगा।
……………………………………………………………………..गुलज़ार












___________________________________________________________________________________________
19.
दूरियां जब बढ़ी, गलतफैमिया भी बढ़ने लगी,
फिर उसने वो भी सुना जो मैंने कहा नहीं |
……………………………………………………………………..गुलज़ार












___________________________________________________________________________________________
20.
वो समझते हे की हर शख्स बदल जाता हे,
उन्हें लगता हैं की जमाना उनके जैसा है।
……………………………………………………………………..गुलज़ार












___________________________________________________________________________________________
21.
सालों बाद मिले तो वो गले लगाकर रोने लगे
जाते वक्त जिन्होंने कहा था तुम्हारे जैसे हज़ार मिलेंगे।
……………………………………………………………………..गुलज़ार













___________________________________________________________________________________________
22.
चले जायेंगे एक दिन तुझे तेरे हाल पर छोड़ कर
कद्र क्या होती है ये वक़्त सीखा देगा।          
……………………………………………………………………..गुलज़ार













___________________________________________________________________________________________
23.
जो खानदानी रईस है वो रखते है मिजाज़ नर्म अपना
तुम्हारा लहजा बता रहा है तुम्हारी दौलत नई – नई है।
……………………………………………………………………..गुलज़ार













__________________________________________________________________________________________
24.
सबको खबर थी मेरे कच्चे मकान की
फिर भी लोगों ने दुआओं में बस बरसात ही मांगी।
……………………………………………………………………..गुलज़ार













___________________________________________________________________________________________
25.
सहमी हुई सी है झोंपड़ी बारिश है खौफ से
और महलों की आरजू है की बरसात तेज हो।
……………………………………………………………………..गुलज़ार













___________________________________________________________________________________________
26.
मेरे शहर में खुदाओं की कमी नहीं
लेकिन दिक्कत मुझे इंसान ढूंढने में होती है।
……………………………………………………………………..गुलज़ार













___________________________________________________________________________________________
27.
सारी उम्र गुज़ार दी तनहाइयों में हमने
जरा सांसे क्यों टूटी, मेला लग गया।
……………………………………………………………………..गुलज़ार













___________________________________________________________________________________________
28.
पूछा हाल शहर का तो वो सर झुका कर बोले
लोग तो ज़िंदा है मगर जमीर का पता नहीं।
……………………………………………………………………..गुलज़ार













___________________________________________________________________________________________
29.
दरवाजा छोटा ही रहने दो अपने मकान का साहब
जो झुक के आ गया समझ लो वही अपना है।
……………………………………………………………………..गुलज़ार













___________________________________________________________________________________________
30.
इतनी शिद्दत से निभाओ जिंदगी में अपना किरदार
की पर्दा गिरने के बाद भी तालियाँ बजती रहे।
……………………………………………………………………..गुलज़ार













___________________________________________________________________________________________

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: