Hindi Shayari, Hindi Quotes, Gulzar Shayai, Gulzar Quotes,

31.
आता हे कौन कौन तेरे गम बाटने ग़ालिब,
तू अपनी मौत की अफवाह जरा उड़ा के तो देख।
………………………………………………………………..मिर्ज़ा ग़ालिब














___________________________________________________________________________________________
32.
ए बुरे वक़्त जरा अदब से पेश आ,
क्योंकि वक़्त नहीं लगता वक़्त बदलने में।
………………………………………………………………..मिर्ज़ा ग़ालिब














___________________________________________________________________________________________
33.
इन हाथों की लकीरों पे मत जाओ ग़ालिब,
नसीब उनके भी होते हे जिनके हाथ नहीं होते।
………………………………………………………………..मिर्ज़ा ग़ालिब














___________________________________________________________________________________________
34.
गुनाह करके कहाँ जाओगे ग़ालिब,
जे जमी ये आसमा सब उसी का हे।
………………………………………………………………..मिर्ज़ा ग़ालिब














___________________________________________________________________________________________
35.
तोडा कुछ इस अदा से ताल्लुक उसने ग़ालिब,
की सारी उम्र हम अपना कसूर ढूंढते रहे।
………………………………………………………………..मिर्ज़ा ग़ालिब














___________________________________________________________________________________________
36.
गुज़र जायेगा ये दौर भी ग़ालिब, जरा इत्मीनान तो रख,
जब ख़ुशी ही न ठहरी, तो ग़म की क्या औकात हे।
………………………………………………………………..मिर्ज़ा ग़ालिब














___________________________________________________________________________________________
37.
हमें पता हे तुम कही और के मुसाफिर हो,
हमारा शहर तो बस यूँ ही रास्ते में आया था।
………………………………………………………………..मिर्ज़ा ग़ालिब














___________________________________________________________________________________________
38.
ये चंद दिन की दुनिया हे ग़ालिब,
यहाँ पलकों पर बिठाया जाता है
नज़रों से गिराने की लिए।
………………………………………………………………..मिर्ज़ा ग़ालिब















___________________________________________________________________________________________
39.
उम्र भर ग़ालिब यही गलती करते रहे,
धूल चेहरे पर थी, हम आईना साफ़ करते रहे।
………………………………………………………………..मिर्ज़ा ग़ालिब















___________________________________________________________________________________________
40.
हम उनकी यादों के सहारे जी लेते मगर
वो भूल जाने की कसम दे गयी।
………………………………………………………………..मिर्ज़ा ग़ालिब















___________________________________________________________________________________________
41.
बहुत मुस्करा रहे हो ज़नाब
लगता हे तुम्हारा इश्क नया – नया है।
………………………………………………………………..मिर्ज़ा ग़ालिब















___________________________________________________________________________________________
42.
कुछ इसलिए भी मैंने उसे जाने से नहीं रोका
क्योंकि जाता ही क्यों अगर मेरा होता।
………………………………………………………………..मिर्ज़ा ग़ालिब















___________________________________________________________________________________________
43.
सबकुछ मिल जायेगा गा तो तमन्ना किसकी करोगे ग़ालिब
अधूरी ख्वाहिशे ही तो जीने का मज़ा देती है।
………………………………………………………………..मिर्ज़ा ग़ालिब















___________________________________________________________________________________________
44.
उड़ने दे इन परिंदों को फिज़ाओ में ग़ालिब,
जो तेरे अपने होंगे वो लौट आएंगे।
………………………………………………………………..मिर्ज़ा ग़ालिब















___________________________________________________________________________________________
45.
रहने दे मुझे इन अंधेरों में ग़ालिब
कम्बक्त रौशनी में अपनों के असली चेहरे सामने आ जाते है।
………………………………………………………………..मिर्ज़ा ग़ालिब

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: